कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? Types of computer in hindi?

 आज के समय में कंप्यूटर का उपयोग दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है, क्योंकि बिना कंप्यूटर के किसी भी कार्य को करना असंभव सा हो रहा है कंप्यूटर एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो सभी प्रकार के डाटा को इनपुट करके उसकी जानकारी को अर्थपूर्वक हमारे सामने प्रस्तुत करता है। अर्थात कंप्यूटर मीनिंग फुल आउटपुट इंफॉर्मेशन प्रोडक्ट करता है।

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? Types of computer in hindi?

कंप्यूटर का प्रयोग आज घर से लेकर ऑफिस स्कूल हॉस्पिटल हर क्षेत्र में किया जाता है कुछ कंप्यूटर छोटे होते हैं। अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर में अलग-अलग प्रकार की जानकारी देने की क्षमता होती है। दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के द्वारा कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर के कितने टाइप होते हैं? किन किन क्षेत्रों में कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है? टाइप ऑफ कंप्यूटर इन हिंदी, इन सभी के बारे में आपको जानकारी देने जा रहे हैं…

कंप्यूटर क्या है?

कंप्यूटर एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक मशीन होती है। जिसमें कुछ ऐसा प्रोग्राम होता है। जिसको बहुत आसानी से व्यक्ति कर सकता है। यह कमांड को इनपुट के हिसाब से करके उसको प्रस्तुत करता है, अंत में वह हमारे सामने रिजल्ट आउटपुट के हिसाब से कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखा दिया जाता है। आज हम मार्केट में अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर कैसे लिखते हैं जिस तरह से कंप्यूटर की पीढ़ियों का विकास हुआ है।उसी प्रकार से आज अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर के रूप हमारे सामने आए हैं। Also Read: सीए का फुल फॉर्म CA full form?

कंप्यूटर कितने प्रकार में बांटा गया है?

समय के साथ-साथ कंप्यूटर अलग-अलग प्रकार से बनाए गए हैं उनको तीन प्रकार से वर्गीकृत किया गया है..

A. तकनीकी के आधार पर

B. उद्देश्य के आधार

C. आकार व क्षमता के आधार

A.तकनीकी आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

तकनीकी के आधार पर कंप्यूटर का तीन प्रकार से वर्गीकरण किया गया है अर्थात तीन प्रकार के इस को बांटा गया है आइए जानते हैं..

1. डिजिटल कंप्यूटर - तकनीकी आधार वाले डिजिटल कंप्यूटर में सूचनाओं व सभी आंकड़ों को विस्तृत रूप में निश्चित अंकों में 0 या 1 के रूप में निरूपित किया गया है सन 1940 के समय में पहला कंप्यूटर मुख्य रूप से गणित की अन्य घटनाओं को संपन्न करने के लिए प्रयोग में लिया जाता था इसीलिए इस कंप्यूटर को डिजिटल कंप्यूटर का ही नाम दिया गया है। डिजिटल कंप्यूटर में प्रत्येक क्रिया को yes (1 ) और no ( 0) में कंप्यूटर के द्वारा व्यक्त कर दिया जाता था डिजिटल मशीनों में हमेशा बायनरी अंक प्रणाली काम में ली जाती थी जिसमें केवल दो अंक 0 या 1 होते थे।

2. एनालॉग कंप्यूटर - एनालॉग कंप्यूटर एनालॉग डाटा या सिग्नल को लिया जाता है। यह इनपुट के रूप में और एनालॉग को प्रस्तुत करते हैं। आउटपुट भी एनालॉग में ही शो किया करते हैं। एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग भौतिक मात्रा को नापने के लिए जैसे दाब, तापमान, लंबाई, ऊंचाई आदि के लिए किया जाता है। 

एनालॉग कंप्यूटर के उदाहरण

Delter

E6B Flight computer

Librascope, aircraft weight and balance computer

Mechanical computer

Water integrator

3. हाइब्रिड कंप्यूटर - हाइब्रिड कंप्यूटर को एनालॉग कंप्यूटर और डिजिटल कंप्यूटर की नई तकनीकों को जोड़कर बनाया गया है। एनालॉग की स्पीड और डिजिटल कंप्यूटर की एसेसरी और मेमोरी इस हाइब्रिड कंप्यूटर में है। हाइब्रिड कंप्यूटर का प्रयोग पेट्रोल पंप पर किया जाता है, क्योंकि यहां पर ईंधन प्रभाव के माफ की मात्रा और कीमत को डिस्प्ले पर दिखाता है।

हाइब्रिड कंप्यूटर के उदाहरण

First hybrid computer - hycomp 250 HYDAC 2400

Starflower hybrid computer

HP Envy hybrid computer

B. उद्देश्य(purposes) के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

Purposes के आधार पर कंप्यूटर को दो प्रकार के भागों में विभाजन किया गया है..

1. सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर  - सामान्य उद्देश्य वाले कंप्यूटर को किसी भी सामान्य पर्पस के लिए तैयार किया जाता है। कंप्यूटर में अनेक प्रकार के कार्य करने की क्षमता उसमें उपस्थित सीपीयू की होती है। इन कंप्यूटर की कीमत बहुत कम होती है, और इनका प्रयोग लेटर तैयार करने, सभी प्रकार के डॉक्यूमेंट तैयार करने, डॉक्यूमेंट का प्रिंट करने के लिए भी किया जाता है।

2.स्पेशल उद्देश्य कंप्यूटर- स्पेशल परपज कंप्यूटर को किसी विशेष कार्य के लिए तैयार किया जाता है। स्पेशल परपज कंप्यूटर में सीपीयू की क्षमता उस कार्य के अनुरूप होती है। जिसके लिए तैयार किया जाता है, जैसे अंतरिक्ष विभाग, मौसम विभाग, अनुसंधान और शोध, यातायात नियंत्रण, चिकित्सा, उपग्रह संचालन, कृषि विज्ञान आदि के कार्य हेतु।

C. आकार व क्षमता के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

आकार व क्षमता के आधार पर कंप्यूटर को पांच भागों में बांटते हैं आइए जानते हैं-

1. सुपर कंप्यूटर - सबसे अधिक गति वाले कंप्यूटर में अधिक क्षमता वाले कंप्यूटर को सुपरकंप्यूटर कहा जाता है इस कंप्यूटर में एक से अधिक सीपीयू लगाए जाते हैं और 1 से अधिक व्यक्ति एक साथ काम कर सकते हैं। यह कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े और महंगे होते हैं।

2. मिनी कंप्यूटर - माइक्रो कंप्यूटर से अधिक गति और मेमोरी वाले कंप्यूटर के कंप्यूटर कहा जाता है इस कंप्यूटर का उपयोग यातायात यात्रियों के लिए रिजर्वेशन प्रणाली का संचालन और बैंकिंग कार्य के लिए किया जाता है।

3. मैन फ्रेम कंप्यूटर - मिनी कंप्यूटर से अधिक गति और कैपेसिटी वाले कंप्यूटर को मेनफ्रेम कंप्यूटर चला जाता है इन कंप्यूटर में डाटा की तीव्रता प्रोसेस करने की क्षमता होती है इसलिए इन कंप्यूटर का प्रयोग बड़ी-बड़ी कंपनियों रेलवे बैंक और सभी सरकारी विभागों में किया जाता है।

4. माइक्रो कंप्यूटर - इस कंप्यूटर की काम करने की क्षमता अन्य बड़े कंप्यूटरों की तरह ही होती है। लेकिन इन कंप्यूटरों का आकार अली की तुलना में बहुत छोटा होता है। एक कंप्यूटर पर सिर्फ एक ही व्यक्ति कार्य कर सकता है।

5. डेक्सटॉप कंप्यूटर - इस कंप्यूटर को एक टेक्स्ट पर सेट किया जाता है इसमें एक सीपीओ, मॉनिटर, कीबोर्ड तथा माउस रखे जाते हैं।इन कंप्यूटर को एक जगह से दूसरी जगह ले जाना मुश्किल होता है, तथा इनकी कीमत भी बहुत कम होती है।

Conclusion

आज हमने आपको इस आर्टिकल के द्वारा कंप्यूटर के प्रकार के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी इससे जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments

Close Menu