NEFT का क्या अर्थ हैं इसका पूरा नाम क्या हैं? NEFT Meaning In Hindi?

आज के इस समय में बैंकिंग सेक्टर का जितना महत्वपूर्ण योगदान हैं उससे प्रत्येक व्यक्ति भलीभांति परिचित हैं। डिजिटल प्रणाली के चलते बैंको में नवीन सुविधाओ की नियुक्ति हुई हैं। जिसके मात्र न केवल नवीनकरण बढ़ा हैं अपितु पैसो से जुड़े हर एक लेन-देन भी आसानी भी हुई।

एक समय था, जब पैसो से सम्बंधित लेन-देन के लिए हमें फिजिकली तौर पर जाना पड़ता था।परंतु अब स्थिति सम्पूर्ण रूप से बदल चुकी हैं। बैंको में फण्ड ट्रांसफर से लेकर नकद रकम निकलने तक के ऐसे नवीन माध्यम बन चुके हैं जिनकी मदद से मानव एफर्ट पर गहरा असर पड़ा हैं।

NEFT का क्या अर्थ हैं इसका पूरा नाम क्या हैं? NEFT Meaning In Hindi?

ऐसे ही एक प्रमुख सेवा या जिसे एडवांस्ड फीचर भी कह सकते हैं,का जिक्र हम इस आर्टिकल के माध्यम से करेंगे जिसे NEFT कहते हैं। जी हाँ, NEFT ये शब्द शायद बैंकिंग उसे करने व लेन-देन करने वाले प्रत्येक ग्राहक ने सुना होगा। परंतु NEFT वास्तव में क्या हैं व उसका फुल्लफॉर्म क्या होता हैं इस प्रश्न का उत्तर महज कोई ही जनता हो। तो आज हम आपको बताएंगे कि NEFT होता क्या हैं व इसका पूरा नाम क्या हैं। तो चलये बिना समय व्यर्थ करते हुए आज के इस आर्टिकल की शरुआत करते हैं।


NEFT का क्या अर्थ हैं इसका पूरा नाम क्या हैं?

NEFT पैसो के तेज लेन-देन का वह माध्यम हैं जिसके द्वारा हम एक खाते से दूसरे खाते में बिना किसी फिजिकल विजिट की जरूरत पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

NEFT का पूरा नाम National Electronic Fund Transfer हैं जिसे हिंदी भाषा मे राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण कहा जाता हैं। ये बैंकिंग सेक्टर में नित्य प्रयोग होने वाली एक प्रणाली में से एक हैं। NEFT RBI द्वारा मान्यता प्राप्त एक ऐसी प्रणाली हैं जिसका गठन वर्ष 2005 में हुआ, इसका प्रचलन उस समय इतना नही था। परंतु धीरे धीरे बैंको की सर्विसेज को प्रयोग में लाने के लिए NEFT का प्रचलन बढ़ गया।

NEFT में पैसो को ट्रांसफर करने के लिए कोई सीमा निर्धारित नही होती। अथार्त ₹1 से लेकर कितने भी ट्रांसफर कर सकते हैं।

NEFT करने के लिए क्या क्या डिटेल्स मान्य हैं?

NEFT पदत्ति के अनुसार एक खाते ने से दूसरे खाते ने पैसे ट्रांसफर करने के लिये कुछ प्रमुख बिन्दुओ का ध्यान रखना पड़ता हैं अथवा इसके अंतर्गत कुछ महत्वपूर्ण डिटेल्स को भी सबमिट करना होता हैं कुछ प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं।

एक खाते से दूसरे खाते में पैसे ट्रांसफर करने के लिए बेनेफिशरी खाते के साथ साथ व्यक्तिगत खाते की जानकारी भी फील करनी होती हैं इसने आने वाली जानकारी इस प्रकार हैं।

  • खाते धारक का नाम
  • खाता संख्या
  • बैंक शाखा का नाम
  •  बैंक IFSC कोड
  • ट्रांसफर करने हेतु रकम

इस मह्त्वपूर्ण जानकारी को सम्पन्न करने के पश्चात एक निर्धारित समय सीमा के अंतर्गत रकम एक खाते से दूसरे खाते में पहुच जाती हैं। इसके अलावा अगर बात करे NEFT में होने में कितना समय लगता हैं व ये किस किस दिन के अंदर होती हैं तो NEFT को कम्पलीट होने में 2 से 3 घण्टे का समय लगता हैं ये दिन के half पर आधारित होता हैं।

बैंको के आधार पर NEFT की समय सीमा निर्धारित रहती हैं जो प्रायः 8 से लेकर शाम 6:30 तक होती हैं व ये साप्ताहिक बेस पर होती हैं। जिसे सोमवार से शुक्रवार के अंतराल में कर सकते हैं। हालांकि, कुछ बैंको में NEFT की सेवा शनिवार के दिन भी उपलब्ध कराई जाती हैं।


NEFT व RTGS में क्या अंतर हैं?

RTGS भी एक तरह से पैसे ट्रांसफर करने का दूसरा विकल्प हैं जो सामान्यतः बैंको में सुनने को मिलता हैं परंतु NEFT के अधिक प्रचलन को देखते हुए RTGS के बारे ने बहुत कम लोग जगरूक हैं।

RTGS में NEFT में प्रमुख क्या अंतर हैं वो इस प्रकार हैं।

  1. RTGS से पैसा तुरन्त ट्रांसफर होता हैं दूसरी ओर NEFT में 2 से 3 घण्टे का समय लगता हैं।
  2. RTGS में न्यूतम रकम की कीमत 2 लाख से लेकर दिन में 10 लाख तक की होती हैं। वही दूसरी ओर NEFT ने यह 1 लाख की होती हैं।
  3. RTGS मुख्यतः current व बड़े फर्म एकाउंट के लिए उपयोग होता हैं। बल्कि NEFT साधारण तौर पर उपयोग होता हैं।

NEFT का बैंकिंग सेक्टर में क्या योगदान हैं?

अगर बात करे NEFT के योगदान की तो इसका इतना महत्वपूर्ण योगदान हैं जिसके अंतर्गत किसी को भी नकद धनराशि साथ रखने की कोई आवश्यकता नही हैं। ट्रांसफर करने के उद्देश्य से ये सबसे बेहतर विकल्पों में से एक हैं।

NEFT सम्पन्न होने के बाद खाता धारक जिसके एकाउंट ने हम पैसा जमा करते हैं उसी बैंक ने जाकर कोई कागज़ी प्रकिर्या की आवश्यकता नही होती। बल्कि उसके खाते से जुड़े सम्पर्क सूत्र पर automatically मेसेज प्राप्त हो जाता हैं। NEFT ऑनलाइन व ऑफलिने दोनों माध्यम में प्रयोग की जाती हैं offline के किये ग्राहक को बैंक जाकर एक NEFT का फॉर्म फील करना होगा जिसमें दोनों खाते धारको की डिटेल्स व राशि को भरने के बाद NEFT सम्पन्न होती हैं।

तो आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने जाना कि NEFT क्या हैं व इसका क्या उपयोग हैं आशा करते हैं आपको इस कथन के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी।