BA का फुल्लफॉर्म क्या हैं? BA Full Form?

शिक्षा स्तर को बढ़ाने व सटीक सरल रास्ता चुनने के लिए हमारे पास अनेको विकल्प हैं। हर विद्यार्थी के जीवन के विभन्न लक्ष्य हैं जिन्हें पाने के लिए वो उन शिक्षा प्रणाली को महत्व देना उचित समझता हैं जिसके मात्र उसका रास्ता सरल हो सके। आज के इस आर्टिकल में हम ऐसे ही एक महत्वपूर्ण अंडर ग्रेजुएट डिग्री के बारे में जानकारी देंगे।

BA का फुल्लफॉर्म क्या हैं? BA Full Form?


यह स्नातक डिग्री को BA के नाम से जाना जाता हैं अथार्त इसका अध्यन प्रणाली में अलग ही महत्व हैं। 12वी के बाद हर विद्यार्थी के सामने कुछ न कुछ करने की इक्षाशक्ति होती हैं, कुछ मेडिकल विज्ञान की ओर रुख करते हैं तो कुछ सरकारी संस्थानों में रोजगार पाने की ओर। इसीलिये BA का अपना एक विशेष महत्व हैं।


BA का फुल्लफॉर्म क्या हैं?

BA को Bachelor of Arts के नाम से जाना जाता हैं, ओर ये अंडर ग्रेजुएट डिग्री के तहत आती हैं। इस पाठ्यक्रम की अवधि तीन वर्ष की होती हैं। BA स्नातक डिग्री को भारत अध्यन प्रणाली की सबसे प्राचीन पाठ्यक्रम माना जाता हैं। 12वी कक्षा पास करने के पश्चात एक जहाँ लाखो विद्यार्थी सरकारी नोकरियों की ओर रुख करते हैं उनमें BA पाठ्यक्रम का अपना एक अलग महत्व हैं। यूनिवर्सिटी के निर्देशानुसार इस पाठ्यक्रम के अंतर्गत विद्यार्थियों को किन्ही तीन विषयो का चयन करना होता हैं। अथार्त कुल पाँच विषयो की परीक्षा देनी होती हैं।

अब तक की गणना के अनुसार, BA पाठ्यक्रम को सबसे ज्यादा चुना गया हैं व 12वी के बाद स्नातक डिग्री में BA का स्थान सबसे ऊपर हैं।

BA पाठ्यक्रम के अंतर्गत कोन-कोन से विषय आते हैं?

BA पाठ्यक्रम के अंतर्गत निम्नलिखित अनेक विषय आते हैं परंतु विद्यार्थियों को किन्ही विशेष तीन विषयो का चुनाव करना होता हैं। इनसे अलग एक qualifying विषय होता व एक foundational विषय।

प्रथम वर्ष की परीक्षा के अंतर्गत विद्यार्थियों को कुल आठ पेपर देने होते हैं।

BA पाठ्यक्रम के अन्तर्गत आने वाले विषयो की सूची इस प्रकार हैं।


  1. Economics- अर्थशास्त्र
  2. History     -इतिहास
  3. Geography-भूगोल
  4. Political Science-राजनीतिक विज्ञान
  5. English Language I & IInd

ये कुछ सामान्य विषय हैं जो कि आम तौर पर विद्यार्थियों द्वारा चुने जाते हैं। हालांकि, इनसे अलग भी अन्य बहुत विषय हैं जिन्हें चुना जा सकता हैं।

Also Read: ITI क्या हैं ITI Full Form?

BA पाठ्यक्रम का रोजगार की दिशा में किस प्रकार सहयोग हैं?

जैसा की हम ऊपर बता चुके हैं, कि BA एक स्नातक अंडर ग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम कोर्स हैं अथार्त रोजगार की दिशा में भी इसका अहम योगदान हैं।

जो विद्यार्थी कक्षा 12वी के बाद Ssc CGL व UPSC की तैयारी करना चाहते हैं उनके लिए ग्रेजुएट होना प्रथम प्राथमिकता हैं। इसी वजह से BA पाठ्यक्रम को सबसे उच्च श्रेणी में अर्जित किया जाता हैं।

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन UPSC के अंतर्गत आने वाले कुछ महत्वपूर्ण परीक्षायें जैसे की IAS एग्जाम में एक विशेष विषय की गहरी जानकारी होना बहुत ही अनिवार्य हैं।

अथवा जो विद्यार्थी शरुआत से ही BA पाठ्यक्रम में चुने गए विषयो पर विशेष तौर से अध्यन करते हैं। उनके लिए ऐसे एग्जाम में सफलता पाना सरल हो जाता हैं।


Also Read: ATM क्या हैं ? ATM Full Form?

BA के अंतर्गत भविष्य में कैरियर ऑप्शन क्या हैं?

BA अंडर ग्रेजुएट डिग्री के लिए जाने जाना वाला एक मात्र ऐसा पाठ्यक्रम हैं जो आर्ट पदत्ती के विषयों की सम्पूर्ण जानकारी देता हैं। तीन वर्ष की अवधि के बाद मास्टर डिग्री के लिए MA का विकल्प आता हैं। अथवा जो विद्यार्थी इसी दिशा में महारत हासिल करना चाहता हैं वो Ph D तक का सफर भी तय कर सकता हैं।

किसी एक विशेष विषय पर मजबूत पकड़ होने पर भविष्य में किसी भी शिक्षण संस्थान में lecturer बनने का सबसे उत्तम मार्ग हैं।

BA एडमिशन प्रणाली क्या हैं?

BA में प्रवेश लेने के लिए विद्यार्थियों को किसी कठिन प्रयाश की आवश्यकता नही होती। अथवा यूनिवर्सिटी के नियम निर्देशानुसार कुछ बिन्दुओ का पालन कर BA के पाठ्यक्रम में दाखिला लिया जा सकता हैं। इसके अलावा कुछ महत्वपूर्ण बातें इस प्रकार हैं।

  • विद्यार्थी के 12वी में कम से कम 55 से 65% अंक होने अनिवार्य हैं। हालांकि अन्य बड़ी शिक्षा संस्थान जैसे दिल्ली विश्वविद्यालय में अंको का criteria ओर भी उच्च स्तर का होता हैं।
  • विद्यार्थी का यूनिवर्सिटी की official website के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन होना अनिवार्य हैं।
  • 10वी व 12वी की अंको की प्रितिलिपि attach होनी अनिवार्य हैं।

दूसरी ओर यूनिवर्सिटी के तहत कॉउंसिल के माध्यम से भी प्रवेश लिया जाता हैं इस कार्यप्रणाली में विद्यार्थी के अंक अहम भूमिका निभातें हैं। अथवा जिस विद्यार्थी के बेहतर अंक हैं वो मेरिट बेस कॉउन्सिल से अपने द्वारा चुने गए कॉलेज व विषयो का आसानी से चुनाव कर सकता हैं।

Also Read: Bsc का फुलफॉर्म क्या हैं? Bsc Full form?


BA पाठ्यक्रम की फीस कितनी होती हैं?

सरकारी कॉलेज की फीस प्राइवेट कॉलेज की तुलना में बहुत कम होती हैं। दाखिले के शरुआत में विद्यार्थी को जो धनराशि देनी होती हैं उसी वर्ष छात्रवर्ती के माध्यम से व धनराशि वापिस मिल जाती हैं। इस प्रक्रिया के चलते कुछ अहम कागज़ों की जरूरत होती हैं जैसे की आय प्रमाण पत्र व विद्यार्थी का मूल निवास आदि।

दूसरी ओर प्राइवेट संस्थान में फीस अलग होती हैं वो कॉलेज पर निर्भर करता हैं।

अतः BA पाठ्यक्रम का अपना अलग ही महत्व चला आ रहा हैं जो प्रत्येक वर्ष विद्यार्थियों को स्नातक डिग्री करने में मददगार हैं।